Tuesday, December 13, 2011

Powered By Google

विकट बुद्धि X

हम सबों ने एक चीज़ हमेशा गौर किया है की विकट का हर ज़वाब, हर चीज़ Google के इर्द्द गिर्द ही रहता है , तो हमने यह सोचा की इसकी ज्ञान का राज़ आज जान लिया जाए |
आखिर इसका ज्ञान बाबा कौन है जो इसको तरह तरह की ज्ञानी बातें बताता है |
हमेशा के जैसे , कॉफ़ी टेबल पर, मैंने पुछा - "यार, ये Google क्या है ?" 
कोई और इसके पहले ज़वाब देता , विकत कूद पड़ा -"Google को सब पता है "
"पर यह है क्या ?"
"Google एक search engine है "
"अच्छा कितने Horse power का है "
"क्या बात करते हो ? तुम बहुत नटखट हो "
मैंने आगे बात बढाई - "अरे engine है तो पॉवर तो होगा न , जैसे मेरे bike की है "
उसने कहा -"वो छोड़ो , Google is a search  engine , तुमको जो भी doubt है , उसको बताओ तो वह उसका answer देगा "
मेरे मित्र ने कहा -"एसी बात है, तो ज़रा यह बताना की देव आनंद की बेटी के husband का क्या नाम है? "
"कौन सी बड़ी बात है, Google सबसे अच्छा Platform है  "
मैंने लुफ्त लिया - "कौन से रेलवे स्टेशन का platform है ?"
मेरे मित्र ने कहा -"सिर्फ सबसे ज्यादा user होने से कोई search engine बेहतर नहीं होता है "
उसने कहा - "क्यूँ नहीं "
मैंने कहा - "जिस तरह microsoft OS सबसे बेहतर OS नहीं है उस तरह "
"फिर कौन सा OS बेहतर है "
"Unix , LINUX ", मस्ती के लिए हमने उसे और छेड़ते हुए कहा - "NASA भी वही  use करता है "
वो बहस लड़ाते हुए बोला -"जैसे UNIX एक platform है LINUX का उसी तरह , NASA से क्या होता है , उसको सिखने में बहुत टाइम waste कौन करेगा? क्या बात करते हो , कुछ भी "
मेरे कंप्यूटर इंजिनियर दोस्त ने कहा - "लेकिन दोस्त, Unix तो खुद एक Operating system है ,...."
मैंने बोला - "Space Rocket चलाना मुश्किल होता है , इसका मतलब यह नहीं की वो बेकार है, और साइकल सबसे अच्छा "
मेरे दोस्त ने चिढाया -"साइकल से तू क्या चाँद पर जा सकता है ?"

वो आगबबुला हो चूका था हमारी बातें सुन कर , हमें क्या है हम तो कुछ भी बोलते है | उसने कहा - "लेकिन Google को सब पता है, वो नंबर#१ है  "
मैंने कहा - "किसने बोला तुम्हे , Google ने ?"
"फिर कौन है नंबर#१ पे ?" उसने हमें Challenge किया | मजेदार बात तो यह थी की मुझे सत्य से ज्यादा इसकी बातों में मज़ा आता है | इसकी बातें ऐसे ही मजेदार बनी रहे मैंने उसे Google करने के लिए बोला और यह भी बताया की हर चीज़ Google पर नहीं होती है , वो एक Library जैसा होता है जहां पर 90 % irrelevant search results मिलते है| Fact on Google
यह सुन कर उसने बोला - "Library है तो Book कहाँ है , मैं तो Google को ही Thank you बोलूँगा "
मेरे मित्र ने समझाया -"अगर तू किसी से पूछेगा और उसका ज़वाब होगा तुम सौरभ से पुछ लो , तो तुम किसको Thank You बोलोगे? Google उसी तरह एक Portal है| तुम्हे ख्याल रखना होगा की क्या सही और क्या गलत है |  "
उसने बोला -"Google के अन्दर एक रोबोट है जो हमेशा सही ज़वाब देगा "
"धत तेरी की , रजनीकांत है क्या "
"नहीं पर वो अच्छा है "

हम सभी निरुत्तर हो गए , इस मोटी बुद्धि के अन्दर कुछ नहीं घुसने वाला |
जब हम अपने डेस्क पर वापस गए तो उसने Google पर search कीया की देव आनंद की बेटी का husband कौन है ? "What he searched?" (Click on the link to see)
Google निरुत्तर था |

-© 2011 सत्य घटना पर आधारित 


2 comments:

suraj said...

but, this vikat budhhi doesn't answer to one question in life....because he has not got the answer from Google yet....I think we all know that ;)

Saurabh said...

Def, and thats the key too our Divine-ness. This is the rare silent moment of Vikat